भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठूंठ की मुस्कान / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेरी आंखों में अटक गई
ठूंठ की मुस्कुराहट

दीखी मुझे
ठूंठ के सहारे खड़ी
एक लता
अपने मीठे फलों की सुगंध साथ लिए


कह रहा था ठूंठ-
खड़ी रह
बस ऐसे ही खड़ी रह

यह सुन कर बोली लता-
अरे ! देखो तो सही
बूढ़े हो चले की अक्कल खराब हुई !
 

अनुवाद : नीरज दइया