भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठूंठ जो ठहरा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर आती रूत लाई
अपने संग रंग नए
पर यह जस-का-तस रहा
आजू-बाजू कहीं
कोंपलें फूटीं
कलियां चटकी
फूल खिले

यहां –वहां
भौंरे गुनगुनाए
हर तरफ
हवाएं बहकी

पर
टस-से-मस न हुआ
      यह मेरा मन
ठूंठ जो ठहरा !