भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

डर / रवीन्द्र दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अकेली निकली थी घर से
डर का अहसास हुआ
उसने सोचा -
अकेली हूँ तो डर किसका !
और गायब हो गया
उसका डर