भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डर / सविता सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँय-साँय चल रही है हवा इस दोपहर
जाने किस ख़ालीपन की तरफ़ बढ़ रही है
क्या कुछ विस्थापित कर डालेगी
क्या कुछ करेगी पार
किसके वजूद पर जा बैठेगी
किसे बैचेन कर डालेगी आज

साँय-साँय चल रही है हवा
लिए उद्विग्नता दोपहर की
और चुप्पी किसी रोते मन की
अधलेटी अपने अन्दर के एकान्त में
डरती सोचती हूँ
कहीं भर न दे मुझे यह अपने वेग से