भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डर / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढूँढ-ढूँढ कर
लाना पड़ता है
खुद को
बार-बार
कभी यहाँ से
कभी वहाँ से
नजर रखनी पड़ती है
खुद पर
वरना डर बना रहता है
खुद के खो जाने का
इधर-उधर
यहाँ-वहाँ
और न जाने
कहाँ-कहाँ।