भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डॉन क्विग्जोट / नाज़िम हिक़मत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अमर नौजवानों के शूरवीर
पचास की उम्र में पाया कि उसका दिमाग है
उसके दिल में
और जुलाई की एक सुबह निकल पड़ा
सही, सुन्दर और जायज चीज़ों पर कब्ज़ा करने।

उसके सामने थी पाग़ल और मगरूर दानवों की एक दुनिया,
वह अपने मरियल, लेकिन बहादुर रोसिनान्ते पर सवार.
मैं जानता हूँ किसी चीज़ की ख़्वाहिश का मतलब,
लेकिन अगर तुम्हारे दिल का वज़न सिर्फ़ एक पौण्ड सोलह औंस है,
तो मेरे डॉन, इन बेहूदी पवनचक्कियों से लड़ना,
कोई समझदारी की बात नहीं।

मगर तुम ठीक कह रहे हो, यक़ीनन दुल्सीनिया तुम्हारी औरत है,
इस दुनिया में सबसे ख़ूबसूरत,
मुझे यक़ीन है कि तुम यह बात
गली के दुकानदारों के मुँह पर कहोगे चीख़ते हुए,
लेकिन वे तुम्हें गिराएँगे घोड़े से खींच कर
और बुरी तरह पीटेंगे.
मगर तुम, हमारे अभागे अजेय शूरवीर,
दमकते रहोगे अपने भारी-भरकम लोहे की टोप में
और दुल्सीनिया और भी ख़ूबसूरत हो जाएगी।

अंग्रेज़ी से अनुवाद : दिगम्बर