भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डोडो / जनार्दन कालीचरण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कभी इस धरती का खुला आंगन
तेरा अपना था ।
चैन की बंशी बजाता फिरता
कहीं न छिपना था ।।
टें-टें करते स्वच्छन्द घूमता
चारा ढूंढ़ता था ।
ज़िन्दगी की आस लिए निडर
दिग-दिगन्त झूमता था ।।
आ गये तब पोतों में भर
सभ्य यूरोपीय यहाँ ।
देख न सके तेरा भरा बदन
जो न मिला था वहाँ ।।
उनके असुर जाग उठे
करने लगे शिकार तेरा ।
भेदने लगे गठिली देह
दे चारों ओर से घेरा ।।
कंधों पर बन्दूक लेकर
वन-वन देते फेरा ।
नोचने लगे स्वानों जैसे
स्वादिष्ट मांस तेरा ।।
कितना स्वार्थी है यह मानव
देखता सिर्फ अपना ।
सीख उसने जीवन में
पराये माल को हड़पना ।।
नस्ल मिटाकर इस दुनिया से
अमर किया नाम तुमने ।
देश की ख्याति बढ़ा दी
देकर प्यारे प्राण तुमने ।।
धन्य हुई है जाति तेरी
अस्थियों की निशानी से ।
धन्य हुई है धरती यह
तुझ जैसे त्यागी प्राणी से ।।