भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डोमिन बेटी सुप नेने ठाढ़ छै / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

डोमिन बेटी सुप नेने ठाढ़ छै
उगऽ हो सुरुज देव,
अरघ केर बेर
हो पुजन केर बेर
मालिन बेटी फूल नेने ठाढ़ छै
उगऽ हो सुरुज देव,
अरघ केर बेर
हो पुजन केर बेर
निर्धन-कोढ़ी बाट-घाटे ठाढ़ छै
उगऽ हो सुरुज देव
अरघ केर बेर
हो पुजन केर बेर
पान-सुपारी पकबान नेने ठाढ़ छै
विप्र नेने ठाढ़ छै
उगऽ हो सुरुज देव
अरघ केर बेर
हो पुजन केर बेर