भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

डोरिया / एज़रा पाउंड / एम० एस० पटेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 अनावृत पवन की
शाश्वत मनःस्थिति की तरह मुझ में समाओ,
नश्वर चीज़ें
फूलों के आह्लाद जैसी नहीं हैं[1]
धूपरहित खड़ी चट्टानों
और धूसर झीलों का
उत्कट एकाकीपन है मुझ में ।
आने वाले दिनों में
देवताओं को विनम्रता से कहने दो,
ऑरकस[2] के रहस्यमय फूल
याद दिलाते हैं तुम्हारी ।
 
मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : एम० एस० पटेल

लीजिए अब मूल अँग्रेज़ी में यही कविता पढ़िए
                Ezra Pound
                    Doria

Be in me as the eternal moods
             of the bleak wind, and not
     As transient things are—
             gaiety of flowers.
Have me in the strong loneliness
             of sunless cliffs
And of grey waters.
             Let the gods speak softly of us
In days hereafter,
             The shadowy flowers of Orcus
Remember thee.

शब्दार्थ
  1. प्राचीन यूनान की चयनिका से सूक्ति
  2. अधोलोक का प्राचीन रोमन देवता