भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढल जाती है नग़मों में खुद आवाज़े-महब्बत / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढल जाती है नग़मों में खुद आवाज़े-महब्बत
मिज़राब का मुहताज नहीं साज़े-महब्बत

होते हैं सर अफ्राज़ सुख़न साज़े-महब्बत
धतकार दिये जाते हैं जां-बाज़े-महब्बत

नूरी न हुए लाइके ऐजाज़े-महब्बत
खाकी ही की तफवीज़ हुआ राज़े-महब्बत

दम बाजियों पर आ गये दमसाज़े-महब्बत
अब कौन किसी को करे हम राज़े-महब्बत

ये हुस्न-ओ-महब्बत का है दिलचस्प तसादुम
तू हुस्न पे नाजां है, मुझे नाज़े-महब्बत

हर दौर में होती है अदावत अल्ह ऐलान
इस दौर में होती है ब-अंदाज़े-महब्बत

तकने लगे एहले-हवस इक दूसरे का मुंह
जब कूद गया आग में जां-बाज़े-महब्बत

रम करते हैं वो मुझ से तो मुझ को हो गिला क्यों
रम भी तो है इक सूरते अंदाज़े-महब्बत।