भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ढाणी-ढाणी गांव-गांव बाबा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढाणी-ढाणी गांव-गांव बाबा
देखी आ ई कांव-कांव बाबा

आं तपतै धोरा सूं सगपण कर
सोधै सगळा छांव-छांव बाबा

कमतर कानी पीठ फोर ऊभा
लैवै सगळा नांव-नांव बाबा

राज रो तेल पल्लै ई चोखो
आछी फैली पांव-पांव बाबा

अठै कोरी हांडी कठै लाधै
साड़्‌या सगळा ठांव-ठांव बाबा