भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे, काळी छींट को घाघरो निजारा मारे रे
ओ ढोला
ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे ,काळी छींट को घाघरो निजारा मारे रे
ओ ढोला

साठ कळी रो घाघरो जी, कळी कळी में घेर
पैर बिचारा निसरे रुपया रो हो गयो ढेर
ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे काळी छींट को घाघरो निजारा मारे रे
ओ ढोला

म्हे ढोला थाने घणी कही जी भक्तन के मत जाई ,
टको लगावे गाँठ को जीरो लगाकर आई ,
ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे काळी छींट को घाघरो निजारा मारे रे
ओ ढोला

म्हे ढोला थाने घणी कही जी परदेसां मत जाये ,
परदेसां की नारियां में मत न प्रीत लगाए ,
ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे काळी छींट को घाघरो निजारा मारे रे
ओ ढोला

जयपुर के बाज़ार में, पड्यो पेमली बोर,
नीची हुर उठावन लागी, पड्यो कमर में जोर ,
ढोला ढोल मंजीरा बाजे रे काळी छींट को घाघरो निजारा मारे रे
ओ ढोला