भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ढोल की आवाज़ / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उदास पसरा था
रात को मैं अपने बिस्तर पर
सोच रहा था
विषाक्त हो चुके
वातावरण पर

तभी दूर
कच्ची बस्ती से
आई ढोल की आवाज़
जो ले गई मुझे
अपने बचपन के गाँव में
इधर बहुत दिन हो गए थे मुझे
बचपन के गाँव को याद किए हुए

मैंने मन ही मन में
ढोल की आवाज़ को
धन्यवाद दिया
और सो गया !