भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तजरबैकार रूंख / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

होळै-सी-क छेडगी मुळक परी
अचपळी हवा
खिल-खिल दांत काढण लाग्या
                  पत्ता
हाडी-हाडी नाचण लागी
जाणै रूंवां में आयगी हुवै

ऊमर रो असर है
आ सोच
अबोलो ऊभो रह्यो
रुतां सागै खेल्योड़ो-खायोड़ो
बरसां रो तजरबैकार रुंख !