भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तज़्ब्जुब / शीन काफ़ निज़ाम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सच बताओ
जो किताबों में लिखा है
क्या वो तुमने ही कहा है
जब अज़ीयत ज़िस्म से रिसने लगेगी
जब दुआ के उठने वाले हाथ
शल होने लगेंगे
और शल होते हुए हाथों को
काट डाला जाएगा शानों से मेरे
जब सीना की सौत
फूँक डालेगी लबों को
आरजू में आबलों सी आँखें
नेजे फोड़ देंगे
और गला बंज़र ज़मीं सा
कुछ न देगा हाथ में आवाज़ के तो
काट डालेगा कोई सर धड़ से मेरा
तुम सिमट कर रंगों बू में
ख़ाको खूं में
सूर फूँकोगे हवा में
'कुन' कहोगे
क्या तुम्हारा ही कहा है
जो किताबों में लिखा है
सच बताओ