भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तटस्थ लोगों के देश में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठीक दोपहर
उछाल रहा था सूरज
आकाश से अंगारे
मैंने पूछा उस से,
“आताप कितना तेज है ?”
उन्होंने हंस कर कहा-
“होगा ।”

अमावस्या की रात
यदि मैं पूछ्ता उन से-
“अंधेरा कितना काला है !”
वह हंस कर कहेंगे-
“होगा ।”

महसूस किया मैंने
नहीं है उन का सरोकार-
सर्दी की ठंड से
गर्मी की तपन से
फागुन की हवा से
चौमासे की वर्षा से
बसंत और पतझड़ से
खिलते-झरते फूलों से
या हरदम साथ रहने वाले कांटों से,
नहीं है उन का सरोकार !

वह तो तटस्थ हैं
एकदम तटस्थ
आदमी की जिंदगी और मौत से भी
विचलित नहीं होते
उन के लिए तो
कुछ भी हो
लेकिन हो जरूर

वह तो अलापते हैं
बस एक ही राग
जो कुछ भी हो, कहेंगे-
होगा… होगा… होगा…


अनुवाद : नीरज दइया