भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तपते टीलों पर / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तपते टिलों पर
दूर कहीं पानी की झलक
पथराती आंखों में कौंधी ललक

टूट रहा था अंग-अंग
फिर भी भरी कुलांच

लेकिन यह जल
था केवल छल

इस सच से टकराते ही
गिरा वही ‘ताड़ाछ’ खाकर
तपते टीलों पर
आग बरसाते सूरज के नीचे……