भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तपतै धोरां तड़ाछ खा’र पड्यो हिरण देखो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तपतै धोरां तड़ाछ खा’र पड्यो हिरण देखो
देखो, देखो गौर सूं थे म्हारो मरण देखो

घर में पग धरतां ई लाव-लाव री रट लागै
छाती माथै पड़ै जाणै सैकडूं घण देखो

कोई कारी कोनी लागै अब आं सांसां रै
फूंफावै दिन अजगर : डसै रात नागण देखो

खाली ऐ गाभा ई नीं लीर-लीर हूं म्हैं खुद
आज कोनी लाधै तीन लोक में शरण देखो

बै कैवै म्हैं सूरज लाया, पण कींकर मानां
घर-गळी-गवाड़ कोनी उजास री किरण देखो