भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तब और अब / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तब
मस्तमौला मन की मिल्कियात थे
ढाई आख्र
जिनकी खनक सुन
खिंचे आते लोग
जैसे पूनम को आता सागर में ज्वार
मुट्ठियों में होते मोती
तह तक आते खंगाल !

अब
बुद्धि के तरकश में तर्क के तीर लिए
योद्धा बने खडे
भेद रहे हैं दूसरों की दीवारें
ढहाकर उनके दुर्ग जहां-तहां
बना रहे अपने मठ यहां-वहां
फिर भी हैं कंगाल !