भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तब तक चोटें करनी होगी / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तब तक
चोटें करनी होगी
कलम, हथौड़े और फूल से।
आर-पार के द्वार
कभी तो खुल पाएँगे
मेरे बाहर।
मेरे भीतर की जाली से
छनकर जाती धूप
कभी वन के फूलों को
जीवन देगी।
पटरी पर तेज दौड़ती
रेलगाड़ी जैसी
छुक-छुक साँसें
रूक जाएँगी वहाँ
जहाँ के लिए चली थी।
तब तक
चोटें करनी होगीं
कलम, हथौड़े और फूल से।