भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तमाम कामकाज के बीच / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तमाम कामकाज के बीच
मैं तो भूल ही गया था
कि मरना भी है

लापरवाही
में उस कर्त्तव्य से कतराता रहा
या निबाहा भी
तो जैसे-तैसे

अब कल से
रवैया बिल्कुल फ़र्क़ होगा

बहुत ही सम्भल-सम्भल कर मरना शुरू करूँगा
बुद्धिमत्ता से ख़ुशी-ख़ुशी
बिना समय बरबाद किए ।