भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तमिस्रा हुई गगन में लीन-दिशा / वृन्दावनलाल वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तमिस्रा हुई गगन में लीन
दिशा ने पाई दृष्टि नवीन।
उदित हुई जब पूर्व के द्वारा
पहिन कर ऊषा मुक्ता हार।
सजाया नेत्रों ने मृछु मार्ग
पलक प्रिय बने पाँवड़े पीन।
सामीरित सौरभ ने ली तान
बजो पुलकित मुकुलों की बीन।