भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तरंग / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़त्म नहीं होता
कभी भी तरंग का सफ़र

बाहर की तरफ़ फैलती है
लौट आती है फिर केंद्र की ओर
अपने ही संगीत संग
नाचती और गाती
रहती है तरंग ।
 
कब ख़त्म होगा
तरंग का यह सफ़र ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला