भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तलवार / अब्दुल्ला पेसिऊ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अब्दुल्ला पेसिऊ  » तलवार

मैं नंगी तलवार हूँ
और मेरी मातृभूमि
उसकी म्यान
जिसे चोरी कर ले गया कोई और

यह मत सोचना कि
रक्त पिपासु
हो गया हूँ मैं

अपने इर्द-गिर्द देखो
उस चोर को ढूंढ निकालो
जिसने नंगा कर दिया है मुझे।


अंग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र