भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तसव्‍वुफ / नून मीम राशिद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हम तसव्वुफ़ ले ख़राबों के मकीं
वक़्त के तूल-ए-आलम-नाक के परवर्दा हैं
एक तारीक अज़ल नूर-ए-अबद से ख़ाली !

हम जो सदियों से चले हैं
तो समझते हैं कि साहिल पाया
अपनी दिन रात की पा-कूबी का हासिल पाया

हम तसव्वुफ़ के निहाँ-ख़ानों में बसने वाले
अपनी पामाली के अफ़्सानों पे हँसने वाले
हम समझते हैं निशान-ए-सर-ए-मंज़िल पाया