भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तस्वीर / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौन पहचानेगा उसे

माँ पिता भाई
वह दूसरी औरत शायद
जिसका चेहरा
एक धुंधले आइने में
बारिश-सा बह रहा है

और तुम
तुम जब अपने ख़ुद की तरफ़ निहारते हुए
क्या दिखाई देता है
मुझे दिखाई देता है एक आदमी
जिसे एक ऎसे ईश्वर के रंग-रूप में
सिरजा गया है
जो व्यतीत हो चुका है।
(1979)

अंग्रेज़ी से अनुवाद : सुरेश सलिल