भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ताक / लक्ष्मीकान्त मुकुल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थाकल आदमी
जब कबो भारी गठरी लदले
आवेला तनी नियरा
ओके देखि के जाने
काहें दो थरथराये लागेला
बांस के पुल
हमरा गाँव के