भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ताज़ा हवा बहार की दिल का मलाल ले गई / 'अज़ीज़' हामिद मदनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ताज़ा हवा बहार की दिल का मलाल ले गई
पा-ए-जुनूँ से हल्क़ा-ए-गर्दिश-ए-हाल ले गई

जुरअत-ए-शौक़ के सिवा ख़लवतियाँ-ए-ख़ास को
इक तेरे गम की आगही ता-ब-सवाल ले गई

शोला-ए-दिल बुझा भुझा ख़ाक-ए-ज़बाँ उड़ी उड़ी
दश्त-ए-हज़ार दाम से मौज-ए-ख़याल ले गई

रात की रात बू-ए-गुल कूज़ा-ए-गुल में बस गई
रंग-ए-हज़ार मै-कदा रूह-ए-सिफ़ाल ले गई

तेज़ हवा की चाप से तीरा-बनों मैं लौ उठी
रूह-ए-तग़य्युर-ए-जहाँ आग से फ़ाल ले गई

नाफ़-ए-आहू-ए-ततार ज़ख़्म-ए-नुमूद का शिकार
दश्त से ज़िंदगी की रौ एक मिसाल ले गई

हिज्र ओ विसाल ओ नेक ओ बदगर्दिश-ए-सद हज़ार-ओ-सद
तुझ को कहाँ कहाँ मेरे सर्व-ए-कमाल ले गई

नर्म हवा पे यूँ खुले कुछ तेरे पैरहन के राज़
सब तेरे जिस्म-ए-नाज़ के राज़-ए-विसाल ले गई

मातम-ए-मर्ग-ए-क़ैस की किस से बनेगी दास्ताँ
नौहा-ए-बे-ज़बाँ कोई चश्म-ए-ग़ज़ाल ले गई