भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ताना-बाना / स्वप्निल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

माँ एक करघा थी
जिस पर हम बच्चों को
बुना गया था

पिता कबीर के पद थे
जिसे अन्तरँग क्षणों में
गाया करती थी माँ

उसके गाने से खिलते थे
कपास के फूल
पवित्र होते थे सफ़ेद रँग

माँ ताना थी तो पिता थे बाना
दोनों बुनने का काम करते थे

पहले बच्चों को फिर
और घर को घोसले की तरह
बुना गया

दूर-दूर से जमा किए
गए तिनके

तूफ़ान में हिलता था
घोंसला
माँ उसे दिल से थामे
रहती थी

अब घोंसले की जगह
तिनके बचे हुए हैं
माँ उड़ कर अनन्त में
चली गई है