भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तारा री चुंदरी / राजस्थानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

बई-सा रा बीरा, जयपुर जाजो जी
आता तो लाइ जो, तारा री चुंदरी...
सुन्दर गौरी, पोत बतावो जी
कसिक ल्यावा, तारा री चुंदरी...
बई-सा रा बीरा, हरा हरा पल्ला जी
कसुमल रंग की, तारा री चुंदरी...
म्हारी मिरगा नैनी, ओढ़ बतावो जी
कसिक सोवे, तारा री चुंदरी...
बई-सा रा बीरा, ननद हटीली जी,
ओढ़न नहीं दे, तारा री चुंदरी...
म्हारी चंदा बदनी, ओढ़ बतावो जी,
महेला में निरखा, जाली री चुंदरी...
बाई-सा बीरा, जयपुर जाजो जी,
आता तो लाइ जो, तारा री चुंदरी,
महेला में निरखा, जाली री चुंदरी