भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तारों और गुलाबों की तरह / मरीना स्विताएवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तारों और गुलाबों की तरह
बड़ी होती जाती हैं कविताएँ
सौन्दर्य की तरह वे होती हैं अवांछनीय ।

मुकुटों और प्रशस्तियों के बारे में
एक ही उत्तर है मेरे पास
कि वे मुझे क्योंकर मिलेंगे ?

सोए होते हैं हम जब
अंगीठी के पास से
प्रकट होता है चार पंखों वाला दिव्य अतिथि ।

ओ मेरी दुनिया, समझने की कोशिश कर !
सपनों में अनावृत किए हैं गायक ने
तारों के नियम और सूत्र फूलों के ।

रचनाकाल : 14 अगस्त 1918

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : वरयाम सिंह