भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तितलियाँ / हेमन्त दिवटे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कॉम्प्लेक्स के
गार्डन में घूमते हुए
मैंने सहज ही मित्र से कहा —
अरे, गहरे पीले रंग की छोटी तितलियाँ
नज़र ही आती नहीं आजकल

तो वह
सरलता से बोला
बहुत ही सरलता से बोला —
वो ब्राण्ड अब बन्द हो चुका है।

मूल मराठी से अनुवाद : सरबजीत गर्चा