भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिमीलाई हाँसेर बिदा मात्र दिइसकेथें / चाँदनी शाह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


तिमीलाई हाँसेर बिदा मात्र दिइसकेथें
आशु झरिसकेछन् (म तिनलाई पुछ्न थालें) २
तिमी मलाई छोडी गैसकेको मात्र के थियौ
तिमी फर्कने दिन (म हतारिदै गन्न लागें) २

(यो दुई दिनको विछोड पनि कति नमीठो
के बिर्सिए जस्तो हराए जस्तो नपुगे जस्तो) २
मान्छेको हुलबीच पनि शून्यपन कस्तो २
ताराहरुलाई छोडी चन्द्र लुकिदिए जस्तो
तिमीलाई हाँसेर बिदा मात्र दिइसकेथें
आशु झरिसकेछन् (म तिनलाई पुछ्न थालें) २
(यी दिन यी रातका हर पल नरमाइला
लाग्छ समय नै सुस्तिएर चलिदिए जस्तो) २
यी मीठा गीतका धुनका पनि कति झर्को लाग्दा २
फूल झरि काँडा मात्र बाँकी भइदिए जस्तो
तिमीलाई हाँसेर बिदा मात्र दिइसकेथें
आशु झरिसकेछन् (म तिनलाई पुछ्न थालें) २

स्वर : तारा देवी
शब्द : चाँदनी शाह