भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिरा मुख मशरिक़ी, हुस्न अनवरी, जल्वा जमाली है / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तिरा मुख मशरिक़ी, हुस्न अनवरी, जल्‍वा जमाली है
नयन जामी, जबीं फि़रदौसी-ओ-अबरू हलाली है

रियाज़ी फ़हम-ओ-गुलशन तब्‍अ-ओ-दाना दिल, अली फ़ितरत
ज़बाँ तेरी फ़सीही-ओ-सुख़न तेरा ज़लाली है

निगह में फ़ैज़ी-ओ-क़ुदसी सरश्‍त-ए-तालिब-ओ-शैदा
कमाली बद्र दिल अहली-ओ-अँखियाँ सूँ ग़ज़ाली है

तू ही है ख़ुसरव-ए-रौशन, ज़मीर-ओ-साहिब-ए-शौकत
तिरे अबरू ये मुझ बेदिल कूँ तुग़रा-ए-विसाली है

'वली' तुझ क़द-ओ-अबरू का हुआ है शौक़ी-ओ-माइल
तू हर इक बैत आली होर हर इक मिसरा ख़याली है