भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिरेसठवें वर्ष में / जय गोस्वामी / रामशंकर द्विवेदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहले वर्ष का छात्र
जैसे लिखता है, वैसे ही
सहज भँगिमा में आवेगों को लिखो ।

बताओ
कि आज भी तेज़ धूप,
वर्षा याद आती है...

अब भी क्या
क्षत-विक्षत होते हो
प्रेम के दंश से ।

मूल बाँगला भाषा से अनुवाद : रामशंकर द्विवेदी