भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिर्याक़ / फ़राज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


तिर्याक़[1]


जब तिरी उदास अँखड़ियों से
पल-भर को चमक उठे थे आँसू
क्या-क्या न गुज़र गई थी दिल पर!
अब मेरे किए मलूल[2]थी तू

कहने को वो ज़िंदगी का लम्हा[3]
पैमाने-वफ़ा [4] से कम नहीं था
माज़ी [5] की तवील[6] तल्ख़ियों[7] का!
जैसे मुझे कोई ग़म नहीं था
तू! मेरे लिए ! उदास इतनी
क्या था ये अगर करम[8] नहीं था

तू आज भी मेरे सामने है
आँखों में उदासियाँ न आँसू
एक तंज़[9] है तेरी हर अदा में
चुभती है तिरे बदन की ख़ुश्बू[10]
या अब मेरा ज़ह्र[11]पी चुकी तू

शब्दार्थ
  1. विषहर
  2. चिंतित
  3. क्षण
  4. वफ़ादारी के वचन
  5. अतीत
  6. लंबी
  7. कड़वाहटों
  8. अनुकंपा,कृपा
  9. व्यंग्य
  10. सुगंध
  11. विष