भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तिलचट्टे/ येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अट्टालिका में तिलचट्टे --
चारो ओर भगदड़
पड़े चुपचाप तिलचट्टे ।
ईश्‍वर निराश, मास्‍को परिषद हताश,
एडमिरल, बैले नर्तकियाँ,
परमाणु वैज्ञानिक, कवि
मुँह ढाँप सो गए
बचने की जगह नहीं ।
मैं रचता था सुन्‍दर गीत --
मेरा श्रम, कि
गन्दी नाली से निकल आया
एक तिलचट्टा ।
जीकिना गाने लगी
निकल पड़ी संगीत-मण्डली
तिलचट्टों की,
संगीतकार बोगोस्‍लोव्‍स्‍की ने उठाया
अकार्डियन
कि उछल आए कुंजीफलक पर
चिकने, भूरे भूत...
सर्वाहारी, शान्त तिलचट्टे,
जूठे पात्रों के अन्‍वेषक
कला-मर्मज्ञ
भित्तिचित्रों की छानबीन करते ।
मास्‍को नदी पर नवनिर्मित
अट्टालिका में
चले आए
किस बु‍ढ़ि‍या के सन्दूक से ?
धमकी, मिन्‍नत विफल ।
आजन्‍म, घुसपैठिये हैं ये ।
कथानक हैं ये,
सत्‍य के लिए बलिदान को प्रस्‍तुत ।
कैसी चिकनाहट और चमक...
सावधान, ये हैं तिलचट्टे --
प्‍लैगिएरिस्‍ट -- सब हजम कर जाते --
कोई भी दवा छिड़किए,
कविता पाठ करते
तिलचट्टे, मूँछे ताने ।
रेस्‍तराँ में नाच-गान कि
निकल आई छिद्रों से वानर सेना,
नाच का पागलपन, जिप्‍सी संगीत
सब समाहित तिलचट्टों में --
माइक से निकले मेहमान ।
अट्टालिका की सफ़ाई करनी है,
तिलचट्टों की दवाई करनी है ।
अन्तरिक्षयान के कोने में मिला
तिलचट्टा,
सब धो डालो ।
साथियो, दवा अधिक छिड़को ।
सब साफ कर डालो ।
घुसपैठियों, तिलचट्टों, तिलचट्टेपन को
समाजवाद की अट्टालिका से ।