भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तिल तिल छीज रहा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने उन्माद में डूबी
बांसों उछलती लहरों को
   मचल-मचल जाते देख

और भी सिहर-सिहर उठता हूं
पहले से ही भयभीत मैं
कहां तक टिक पाऊंगा
नित्य तिल-तिल छीज रहा
नोक –भर टिका-जुड़ा पुराना किनारा !

बांसों उछलती लहरों को देख
सिहर-सिहर उठता हूं मैं !