भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिल तिल छीज रहा / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने उन्माद में डूबी
बांसों उछलती लहरों को
   मचल-मचल जाते देख

और भी सिहर-सिहर उठता हूं
पहले से ही भयभीत मैं
कहां तक टिक पाऊंगा
नित्य तिल-तिल छीज रहा
नोक –भर टिका-जुड़ा पुराना किनारा !

बांसों उछलती लहरों को देख
सिहर-सिहर उठता हूं मैं !