भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिसळता पग / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घणोई काठो राख्यो
म्हैं तो म्हारो मन
पण निभी कोनी
जद देखी रोटी री गोळाई
अर गोरै भरवां डील आळी लुगाई
इसो तिसळियो एकर
कै हाल तांई तिसळ रैयो हूं
संभळण री कोसीस करूं तो
ऐड़ै-छेड़ै ऊभा लोग
संभळण कोनी देवै ।