भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तीन कौए / मक्सीम तांक / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीन कौए चक्कर काट रहे हैं
मारे गए गुरिल्ला सैनिक की लाश पर
और दुख प्रकट कर रहे हैं ...

किसे ख़बर दी जाए इस दुर्घटना की
उसे, जिसने विवाह किया इससे
या इसकी बूढ़ी माँ को
या प्रिय दोस्तों को इसके?

तीन कौए डोल रहे हैं लगातार
पहला किलका —
मुश्किल बहुत है रास्ता ढूँढ़ना
इसकी बीवी तक पहुँचने को
दूसरा बोला —
सब कुछ धुएँ में डूबा है
दोस्तों को ढूँढ़
 पाना कठिन है ।

तीन कौए उड़ते रहे लगातार
सोचते रहे, सोचते रहे, बार-बार
तीसरा बोला —
मैं जा सकता हूँ बूढ़ी माँ तक
पर ख़बर इतनी भारी है
कि पंख मेरे उठा नहीं सकते उसे ।

तीन कौए घूमते रहे लगातार ।