भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तीर्थयात्री / यूनीस डिसूजा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पहाड़ियाँ रेंग रही हैं रक्षक-वाहनों से
मद्धिम रोशनियाँ घूमती हैं, ऊपर-नीचे
पर्वत-श्रेणियों पर
प्रस्थित फिर किसी दीमक लगे
शहर की ओर ।

ललछौंही देवशिला
सबको गुज़रते हुए देखती रहती है ।

एक बार वह बोली थी,
रक्तवर्णी पाषाण खण्ड
साक्षी हैं उसके ।

देवशिला ! मैं एक तीर्थयात्री हूँ,
मुझे बताओ —
दिल को कहाँ राहत मिलती है ?

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनामिका