भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तीर चिल्ले पे न आना कि ख़ता हो जाना / 'हफ़ीज़' जालंधरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तीर चिल्ले पे न आना कि ख़ता हो जाना
लब तक आते हुए शिकवे का दुआ हो जाना

याद है उस बुत-ए-काफिर का ख़फा हो जाना
और मिरा भूल के माइल-ब-दुआ हो जाना

हैरत-अंगेज है नक्काश-ए-अज़ल के हाथों
मेरी तस्वीर का तस्वीर-ए-फ़ना हो जाना

दस्त-ए-तक़दीर में शमशीर-ए-जफ़ा देना है
ख़ुद-ब-ख़ुद बंदा-ए-तस्लीम-ओ-रज़ा हो जाना

उस की उफ़्ताद पे ख़ुर्शीद की रिफ़त कुर्बां
जिस को भाया तिरा नक़्श-ए-कफ़-ए-पा-हो जाना

रौनक़-ए-बज़्म है शेवन से तो शेवन ही सही
हम-सफ़ीरान-ए-चमन फिर न ख़फा हो जाना

दावर-ए-हश्र का इंसाफ़ इशारे उन के
बस यही है किसी बंदे का ख़ुदा हो जाना