भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुमने हँस के जो देखा जरा सा मुझे / कुमार अनिल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमने हँस के जो देखा ज़रा-सा मुझे,
                   हर तरफ़ चाँदनी की फ़सल हो गई ।
एक पल के लिए भी जो रूठ गए
                   अपनी साँस भी मुझको गरल हो गई ।
तुम हमसे मिले, मिल कर बिछुड़े,
                   हमें कविता की भाषा सरल हो गई ।
सुख के-दुख के यूँ शेर मिले,
                   ज़िन्दगी एक मुकम्मल ग़ज़ल हो गई ।