भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारी आँखें चमक रही हैं / गुन्नार एकिलोफ़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी आँखें चमक रही हैं
सुर्ख़ शराब से
मैं कैसे बुझाऊँ उनकी चमक?
-- सिर्फ़ भर कर उन दोनों की चुस्कियाँ
चुम्बनों से
एक और एक के बाद दूसरी
फिर तुम उन्हें भरो एक बार और
पीली शराब से
जिसे मैं चाहता हूँ

सबसे ज़्यादा ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : सुधीर सक्सेना