भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारी गोद में / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घुँडियों के मुँह लगाते ही
लगा मुझे
सारा सुख यहीं है

उमस
आँधी
और लू के थपेड़े
या ओलावृष्टि की मार
कुछ नहीं कर सकती मेरा

तुम्हारी गोद मे‍ मुझे डर कैसा
मैं चूँध तृप्त होता हूं
चूँध तृप्त होता है जगत
तुम्हारी छातियों में
क्षीर-सागर है माँ !

अनुवाद : नीरज दइया