भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारी तरह / रोके दाल्तोन / राजेश चन्द्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिस तरह प्यार करता हूँ मैं तुमसे
ठीक उसी तरह जीवन से,
चीज़ों की मीठी खुशबू से और
जनवरी के व्योम-नील परिदृश्य से भी
मैं करता हूँ प्यार ।

मेरा रक्त उबल रहा होता है
और मैं हँसता हूँ उन्हीं आँखों से
जिन्होंने थाह पाई है
आँसुओं के सब कूल-किनारों की ।

मुझे यक़ीन है कि दुनिया ख़ूबसूरत है
मानता हूं कि कविता की तरह ही
रोटी पर भी सबका हक़ है ।

और यह भी कि मेरी रक्तवाहिनियाँ
समाप्त नहीं होतीं मुझमें,
बल्कि इनमें ही समाहित हैं
उन तमाम समानधर्मा लोगों के रक्त भी
जो लड़ रहे हैं इस पृथ्वी पर
जीवन, प्यार, चीज़ों, परिदृश्य, रोटी
और कविता पर सबके समान हक़ के लिए ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : राजेश चन्द्र
लीजिए, अब यही कविता मूल स्पानी भाषा में पढ़िए
            Roque Dalton
               Como Tú

Yo, como tu,
amo el amor, la vida, el dulce encanto
de las cosas, el paisaje
celeste de los días de enero.
También mi sangre bulle
y río por los ojos
que han conocido el brote de las lágrimas.
Creo que el mundo es bello,
que la poesía es como el pan, de todos.
Y que mis venas no terminan en mí
sino en la sangre unánime
de los que luchan por la vida,
el amor,
las cosas,
el paisaje y el pan,
la poesía de todos.