भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारी निगह दिल को बहला गई / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी निगह दिल को बहला गई
इशारों इशारों में समझा गई

गिरीं बिजलियों खिरमने-सब्र पर
अदाएं तबस्सुम ग़ज़ब ढा गई

जिगर का हुआ हाल दिल की तरह
इसे भी किसी की नज़र खा गई

भभूका थी आहे-सहर-गाह भी
जिधर से गई आग बरसा गई

गया मरने पर भी न दीवाना-पन
मिरी रूह भी सुए-सहरा गई

ग़ज़ब की है दाद-आफ़रीं तेरी याद
जब आई मिरे दिल को तड़पा गई

'वफ़ा' लग गया जी को आज़ारे-इश्क़
जवानी के बदले क़ज़ा आ गई।