भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे दुख / शेरको बेकस / प्रकाश के रे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुलना की इतिहास ने
अपनी व्यापकता की
तुम्हारे दुखों के परिमाण से ।

तुम्हारे दुख
उससे कुछ अँगुल
बड़े थे।

समन्दर ने मापना चाही
गहराई
तुम्हारे घावों की,
अपनी गहनता के बरक्स ।

चीख़ पड़ा वह
डूबने के भय से
उनमें ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : प्रकाश के रे