भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे पाँव / पाब्लो नेरूदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
जब तुम्हारे चेहरे पर नहीं ठहरती मेरी नजर
तब मैं तुम्हारे पाँवों की जानिब देखता हूँ
तुम्हारे मेहराबदार
छोटे सख़्त पाँव
मैं जानता हूँ ये तुम्हें सहारा देते हैं
इन्हीं के सहारे तो है
तुम्हारा हल्का बदन
तुम्हारी कमर और तुम्हारे स्तन,
तुम्हारे जुड़वां बैंगनी कुचाग्र
तुम्हारी झपकती पलकों के साए
तुम्हारा रसीला मुँह और
घुंघराले लाल बाल

ओ मेरी नन्ही मीनार
लेकिन मुझे तुम्हारे पाँवों से प्यार है
क्योंकि उन्होंने नापी तमाम धरती,
हवाओं और सागरों को पार किया
तब तक, जब तक
तलाश नहीं लिया मुझे

सन्दीप कुमार द्वारा अँग्रेज़ी से अनूदित