भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारे पास ही रहते न छोड़कर जाते / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


तुम्हारे पास ही रहते न छोड़कर जाते
तुम्हीं नवाज़ते[1] तो क्यों इधर उधर जाते

किसी के नाम से मंसूब[2] यह इमारत[3] थी
बदन सराय नहीं था कि सब ठहर जाते

शब्दार्थ
  1. उपकृत करते, मेहरबानी करते
  2. नियोजित,planned
  3. भवन